अखिलेश और रामगोपाल की हुई पार्टी में वापसी

0
19

यूपी की सत्ताधारी समाजवादी पार्टी में जारी सियासी घमासान के बाद तस्वीर काफी हद साफ होती दिखी और अब यहां सुलह की कोशिशें शुरू हो गई हैं. शनिवार को हुए एक तरह के शक्ति परीक्षण में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने पिता एवं पार्टी अध्यक्ष मुलायम सिंह और चाचा शिवपाल पर भारी पड़ते दिखे.

इस बीच मुख्यमंत्री अखिलेश और रामगोपाल यादव का सपा से निष्कासन वापस ले लिया गया. सपा के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने इस संबंध में ट्वीट कर कहा, ‘नेताजी के आदेश अनुसार, अखिलेश यादव और रामगोपाल यादव का पार्टी से निष्कासन तत्काल प्रभाव से समाप्त किया जाता है. सब साथ मिलकर सांप्रदायिक ताकतों से लड़ेंगे और उत्तर प्रदेश में फिर से पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएंगे.’

इसके बाद मीडिया को संबोधित करते हुए शिवपाल यादव ने बताया कि रामगोपाल यादव ने अपना सम्मेलन रद्द कर दिया और अब चुनावों के लिए मुलायम सिंह और अखिलेश यादव मिलकर उम्मीदवारों की लिस्ट बनाएंगे. इसके साथ ही उन्होंने कहा, अब साथ-साथ रहना बहुत जरूरी है और हम सब लोग मिलकर चुनाव में जाएंगे. हमारी सरकार ने सारे वादे पूरे किए हैं, जनता हमारे साथ है.

पिता-पुत्र के बीच सुलह में आजम की अहम भूमिका
इससे पहले सीएम अखिलेश अपने पिता एवं पार्टी अध्यक्ष मुलायम सिंह से मिलने उनके घर पहुंचकर सुलह के लिए अपनी शर्तें रखी थीं. पिता-पुत्र की इस मुलाकात में वरिष्ठ सपा नेता आजम खान की अहम भूमिका मानी जा रही है. उन्होंने ही पहले पिता मुलायम और फिर अखिलेश से मुलाकात कर बीचबचाव की कोशिश की. अखिलेश जिस गाड़ी से मुलायम सिंह के घर पहुंचे, उसमें भी अखिलेश के साथ आजम खान और अबु आजमी मौजूद थे.

अखिलेश ने अमर सिंह को हटाने की रखी शर्त
अखिलेश ने यहां पिता के सामने सुलह के लिए अमर सिंह को पार्टी से निकालने की शर्त रखी और 12 सितंबर से पहले के हालात बहाल करने की मांग की है. दरअसल तभी से अखिलेश की चाचा शिवपाल के बीच खुली रस्साकशी शुरू हुई थी. अखिलेश यादव की इन शर्तों के बाद मुलायम सिंह ने अपने भाई एवं पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव को फोन कर अपने घर बुलाया है और फिर थोड़ी देर बातचीत चलने के बाद बैठक खत्म हो गई.

बता दें कि यूपी में तेजी से बदलते सियासी घटनाक्रम के तहत सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और अपने भाई रामगोपाल यादव को पार्टी से 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया था. अखिलेश द्वारा उम्मीदवारों की अपनी लिस्ट जारी करने, तो वहीं रामगोपाल द्वारा पार्टी का सम्मेलन बुलाने पर मुलायम सिंह ने अनुशासनहीनता करार देते शुक्रवार को यह कार्रवाई की.

बेटे अखिलेश और भाई रामगोपाल के तेवरों से गुस्साए सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने लखनऊ में आनन-फानन में बुलाए प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि अखिलेश यादव को रामगोपाल गुमराह कर उनका भविष्य खत्म कर रहे हैं. साथ ही मुलायम ने कहा था कि रामगोपाल के बुलाए अधिवेशन में पार्टी नेताओं और मंत्रियों के शामिल होने को भी अनुशासनहीनता माना जाएगा.

Comments

comments

Related posts:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here