क्यों ज़रूरी है पैलेट गन ! पढ़िए एक दास्तान !

0
10

आज से कोई 20 साल पहले की बात है. जिला गाज़ीपुर में एक छोटा सा बाजार है, बाजार क्या चट्टी कह लीजिये. यही कोई 50 – 60 दुकानें होंगी. खानपुर. वहाँ एक थाना भी है.
.
खानपुर बाजार में किसी बात पे बवाल हुआ, तनाव बढ़ गया, सो थाने से पुलिस पहुंची. उनसे जब मामला न सम्हाला तो वायरलेस हुआ जिले पे. 10 km दूर सैदपुर तहसील और कोतवाली है. SDM सैदपुर को आदेश हुआ कि जो भी थोड़ी बहुत फ़ोर्स कोतवाली सैदपुर में है उसे ले के तुरंत खानपुर पहुँचिये. तब तक जिला मुख्यालय गाज़ीपुर (लगभग 45 km दूर) से अतिरिक्त force भेजी जा रही है.
.
SDM साहब एक पुराने promotee PCS थे, रिटायरमेंट के करीब. वो अपनी जीप से कोतवाली से 4 – 6 सिपाही ले के पहुंचे. लगे समझाने बुझाने, पर बात सम्हली नहीं बल्कि और बिगड़ गयी. भीड़ ने फ़ोर्स समेत SDM साहब को ही दौड़ा लिया पीटने के लिए. पुलिस वाले और SDM साहब जान ले के भागे ……. पास ही में एक खाली कटरा था जिसमे कुछ दुकानें बनी हुई थी. किसी तरह एक दूकान में जा घुसे और shutter बंद कर लिया. अब बाहर भीड़ लाठी डंडा लिए shutter पीट रही थी और SDM साहब की जान अंदर अटकी थी.
.
SDM साहब ने साथ वाले सिपाही से कहा ……..Fire ……. राइफल से फायर करो.
.
सिपाही बोला, अरे साहब, ऐसे कैसे fire कर दें. किसके आदेश से fire कर दें?
.
अबे मैं आदेश दे रहा हूँ …… fire करो.
.
सिपाही बोला, अरे साहब, आप कौन?
.
मैं SDM ……
.
तो साहब लिखित आदेश दीजिये हमारे कोतवाल साहब को ……. ऊ जब हमको आदेश देंगे तब हम fire करूंगा.
.
अबे बहरवां (बाहर) सब गोजी डंडा ले के खड़े हैं, मार के मुआ देंगे …….
.
ए साहब …… ई सब बवाल आप पहली बार देखे होंगे, हम रोज़ ई कुल देखता हूँ. सिर्फ 4 – 6 हाथ मारेंगे सब, मुआयेंगे नहीं. खा लीजिये 4 डंडा. आज आपके कहने से मैं fire कर दूंगा, कल आप मुकर जाएंगे. एकाक ठो मर गया तो हमरी तो नौकरी चली जायेगी ऊपर से ह्त्या का मुकदमा. खा लीजिये आप भी 4 डंडा.
.
कुछ देर में पब्लिक ने शटर तोड़ डाला. पुलिस वाले वर्दी में थे सो उनके साथ सिर्फ हाथापाई हुई, पर SDM साहब चूँकि सिविल में थे इसलिए ऊ बल भर मराये. मुझे ये किस्सा स्वयं उस सिपाही ने सुनाया जो उस दिन उनके साथ उस दूकान में बंद था. बता रहा था कि सब SDM साहब को इतना मारे कि साहब कपड़ो में ही सब ह… मू… दिए. कहने का मतलब ये कि जब साहब की खुद की जान पे बन आई तो बोले फायर …….
.
ई जितने नेता और ये हाई कोर्ट सुप्रीम कोर्ट के जज हैं, इन सब B वालों को एक बार पत्थर बाजों के सामने लिया के खड़ा कर दो और फिर इनसे पूछो ….. ए साहब, अब बताईं… Pellet Gun चलायें कि नाही ……..?

लेखक- अजित सिंह की वाल से साभार

Comments

comments

Related posts:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here