पाकिस्तान को दिया ऑफर कश्मीर के साथ बिहार लेने का काटजू, बोले मज़ाक कर रहा…

0
39

​उरी हमले के बाद पूरा देश एक सुर में देश से लेकर विदेश तक पाकिस्तान का विरोध कर रहा है. लेकिन सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस और प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने कश्मीर को लेकर बिहार का मजाक उड़ाया है. उन्होंने कश्मीर को लेकर ट्विटर और फेसबुक पर विवादित टिप्पणी की है. काटजू ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा है कि पाकिस्तान के लिए ऑफर है, अगर उसे कश्मीर चाहिए तो उसके साथ बिहार को भी लेना होगा. काटजू के इस तरह के विवादित बोल पर बिहार के राजनीतिक दलों में काफी आक्रोश है.

दरअसल काटजू अपने कमेंट्स को लेकर अक्सर विवादों में रहते हैं. इस बार उन्होंने कश्मीर को लेकर टिप्पणी की है, उन्होंने ट्विटर और फेसबुक पर लिखा है कि पाकिस्तान के लोग आइए और कश्मीर विवाद को मिलकर खत्म करते हैं. उन्होंने आगे लिखा है कि एक शर्त पर हम आपको कश्मीर देंगे, उसके साथ आपको बिहार भी लेना होगा. ये एक पैकेज डील है… या तो दोनों, अन्यथा कुछ नहीं. हम आपको केवल कश्मीर नहीं देंगे. मंजूर है?

यही नहीं, काटजू ने आगे ये भी लिखा है कि पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी ने भी आगरा वार्ता के दौरान पाकिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ को भी ये ऑफर दिया था, लेकिन मूर्ख मुशर्रफ ने ठुकरा दिया था. इस तरह के अपडेट्स के बाद सोशल मीडिया पर काटजू की चौतरफा निंदा हो रही है. तमाम लोग उनके खिलाफ कमेंट्स कर रहे हैं. कुछ लोग ने काटजू द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी का नाम लेने कड़ी प्रतिक्रिया दी है.

हालांकि मामला बढ़ने के बाद काटजू ने अपनी सफाई इसे सिर्फ एक मजाक बताया है और लोगों की कड़ी प्रतिक्रिया को सेंस ऑफ ह्यूमर की कमी बताई है. उन्होंने कहा कि इसे केवल एक मजाक के तौर पर लेना चाहिए. जबकि तमाम लोग इसे उरी में हुए शहीदों का अपमान बता रहे हैं और काटजू से माफी की मांग कर रहे हैं. गौरतलब है कि प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष रहते हुए भी काटजू ने बिहार में मीडिया की आजादी पर सवाल उठाया था, उस वक्त भी काफी हंगामा बरपा था.

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस मार्केंडेय काटजू के इस विवादित पोस्ट पर बिहार के राजनीतिक दलों में काफी आक्रोश है. जेडीयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने काटजू के विवादित पोस्ट पर बोलते हुए कहा कि हे प्रभु इन्हें माफ कर दो! जेडीयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा है कि काटजू नहीं जानते कि ये कौन सा अपराध कर रहे हैं. स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास में बिहार का अविस्मरणीय योगदान रहा है, साथ ही साथ गांधी के चंपारण सत्याग्रह से लेकर सामाजिक सदभाव के लिए चले आंदोलन में बिहार की अहम भूमिका रही है. ऐसी स्थिति में बिहार के विरासत को बिना जाने जस्टिस काटजू द्वारा की गयी टिप्पणी काफी अशोभनीय है.

वहीं बीजेपी नेता नंद किशोर यादव ने पहले तो जस्टिस काटजू के टिप्पणी को तवज्जो ही नहीं दी फिर कहा कश्मीर को लेकर विवादित बयान देना किसी भी हालत में स्वीकार्य नहीं है और कश्मीर के साथ बिहार का नाम जोड़ना बिहार का अपमान करना है. इसके लिए बिहार किसी हालत में काटजू को माफ नहीं करेगा. जस्टिस काटजू ने हाल के दिनों में भी अमिताभ बच्चन के बारे में भी बेतुका बयान देकर सुर्खियां बटोरी थी, जिसका खुद अमिताभ बच्चन ने जवाब दिया था.

Comments

comments

Related posts:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here