पाकिस्तान पर भारत के प्रधानमंत्री का कड़ा प्रहार कहा हर जंग के लिए तैयार भारत। जाने पूरी खबर…

0
16

​केरल के कोझिकोड से पीएम नरेंद्र मोदी ने उरी हमले को लेकर पाकिस्तान पर सीधा हमला बोला. उन्होंने कहा कि एशिया में पाकिस्तान ही एक ऐसा देश है जिसकी वजह से पूरा एशिया रक्तरंजित है. उन्होंने कहा कि नवाज शरीफ आज कल आतंकियों के लिखे भाषण दुनिया में घूम-घूमकर पढ़ रहे हैं. पाकिस्तान के कश्मीर राग पर पलटवार करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि पहले वे सिंध, गिलगिट, खैबर पखतुन और बलूचिस्तान को संभाल लें, फिर कश्मीर की चिंता करे. 

पाकिस्तान पर पीएम मोदी का सीधा हमला

पीएम ने कहा कि एशिया में जहां-जहां आतंकवाद की घटनाएं होती हैं, एशिया का एक देश है उसी पर सब उंगली उठाते हैं और यही एक देश है जो आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है. पीएम मोदी ने पाकिस्तान के खिलाफ सख्त तेवर अपनाते हुए कहा, ‘अफगानिस्तान हो, बांग्लादेश हो, आपने देखा होगा कि आतंकवाद की खबर आती है, तो ये भी खबर आती है कि आतंकवादी या तो इस देश से आता है या फिर घटना के बाद यहां शरण लेता है’.
नवाज शरीफ को नसीहत

पीएम मोदी ने नवाज शरीफ पर निशाना साधते हुए कहा, ‘पाकिस्तान के हुक्मरान आतंकवादियों के लिखे भाषण पढ़कर उनके गीत गा रहे हैं. मैं पाकिस्तान की आवाम से बात करना चाहता हूं, उनके हुक्मरानों से बात करना चाहता नहीं चाहता हूं जो आतंकियों के लिखे भाषण पढ़ते हैं’.

पीएम ने केरलवासियों की तारीफ की

पीएम मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत केरलवासियों की तारीफ से की. उन्होंने कहा कि केरल के नाम में पवित्रता का भाव झलकता है, केरल के लोग दुनिया भर में आदर के भाव से देखे जाते हैं और ये श्रद्धा केरल की भू-भाग की वजह से है. पीएम ने कहा कि खाड़ी देशों में वो केरल के लोगों से मिले, सबके मुंह से केरल की तारीफ सुनी. इससे पहले केरल के कोझिकोड में मंच पर पहुंचते ही पीएम मोदी का भव्य स्वागत किया गया. मंच पर बीजेपी के सीनियर नेता लाल कृष्ण आडवाणी भी मौजूद थे.
बीजेपी के इतिहास से केरल को जोड़ा

पीएम ने अपने संबोधन में कहा कि आज मुझे इस धरती पर दोबारा आने का मौका मिला है. कुछ साल पहले इसी मैदान पर पॉलिटिकल रैली करने का सौभाग्य मिला था. हैलिपैड से लेकर यहां तक पूरे रास्ते पर ह्यूमन चेन नहीं, बल्कि ह्यूमन वॉल देखा. अपने संबोधन में पीएम ने कहा कि आज से 50 साल पहले पंडित दीन दयाल उपाध्याय यहीं पर अध्यक्ष बनाए गए थे. 50 साल पहले अखबार के किसी कोने जनसंघ की ये खबर छपी होगी या नहीं ये नहीं पता. उस समय के पॉलिटिकल पंडितों को आश्चर्य हुआ होगा. लेकिन विविधता से भरे इस देश ने अब इसे सबसे बड़ी पार्टी बना दिया है और देश की सेवा करने का अवसर दिया वो भी पूर्ण बहुमत के साथ ये मौका मिला है.

Comments

comments

Related posts:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here