भारत करेगा फ़्रांस से राफेल सौदा, 2019 तक भारत को मिल जाएंगे 36 विमान। पूरी खबर…

0
18

लंबे इंतजार के बाद भारत शुक्रवार को फ्रांस से राफेल फाइटर प्लेन का सौदा करने वाला है. इसके लिए फ्रांस के रक्षा मंत्री ज्यां यीव ली ड्रियान भारत के दौरा कर रहे हैं. फ्रांस से भारत अरबों रुपये के खर्च से 36 राफेल विमान खरीद रहा है. चीन की चुनौती से निपटने के लिए भारत ये विमान खरीद रहा है, लेकिन सुरक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि चीन का सामना करने के लिए भारत को इससे ज्यादा करना होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लगभग डेढ़ साल पहले अपनी फ्रांस यात्रा के दौरान 36 राफेल विमान खरीदने की घोषणा की थी. इस दौरान दोनों देशों ने गवर्नमेंट टू गवर्नमेंट डील के लिए समझौता भी किया था. राफेल लड़ाकू विमानों को फ्रांस की डसाल्ट एविएशन कंपनी बनाती है. 36 विमान सीधे फ्रांस से आएंगे क्यों खरीदे जा रहे हैं ये विमान?

भारत अंतरराष्ट्रीय सीमाओं पर सुरक्षा व्यवस्था को और मजबूत करना चाहता है. इसलिए राफेल विमान खरीदे जा रहे हैं. सुरक्षा विशेषज्ञों की मानें, तो इस सौदे से एयरफोर्स और मजबूत होगा.एयरफोर्स के पास 1970 और 1980 के पुराने पीढ़ी के विमान हैं. बीते 25-30 सालों के बाद ऐसा पहली बार हो रहा है, जब भारत राफेल के रूप में ऐसी टेक्नोलॉजी खरीद रहा है.क्या है राफेल की खासियत?
राफेल का इस्तेमाल फिलहाल सीरिया और इराक में बम गिराने के लिए किया जा रहा है. राफेल 3 हजार 800 किलोमीटर तक उड़ान भर सकता है. इसकी मदद से एयरफोर्स भारत में रहकर ही पाक और चीन में हमला कर सकती है. राफेल में हवा से जमीन में मार करने वाली स्कैल्प मिसाइलें होंगी.

कितनी आएगी लागत
सुरक्षा विशेषज्ञों की मानें, तो राफेल के सौदे पर अरबों रुपये खर्च हो रहे हैं. काफी मोलभाव के बाद फ्रांस इसे 7.9 बिलियन यूरो में देने में राजी हुआ है. अगर भारतीय रुपये में बात करें तो करीब 59 हजार करोड़ में आएगा. एक राफेल की कीमत हथियार के सहित करीब 1600 करोड़ रुपये की पड़ेगी.भारत को कब मिलेगा राफेल
सौदे पर साइन होने के 36 महीने के अंदर यानी 2019 में विमान आना शुरू होगा. यानी एयरफोर्स को राफेल विमानों के लिए तीन साल तक इंतजार करना पड़ेगा

Comments

comments

Related posts:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here