आख़िर खुल ही गया सेना के नाम अकाउंट। जानिए विविरण

0
136

देशभक्तो की जोरदार पुकार के बाद सेना के नाम अकाउंट खोल दिया गया है।

पत्रकार- आरटीआई कार्यकर्ता राजेन्द्र के.गुप्ता ने दिनांक 19 जुलाई 2016 को राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी, प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर को जनता के द्वारा सेना के लिए राशि जमा करने के लिए बैंक खाता खोलने का सुझाव दिया था, जिस पर आज रक्षा मंत्रालय नई दिल्ली के विशेष कार्य अधिकारी उपेन्द्र जोशी ने गुप्ता को पत्र क्रं/डी.ओ.स./6766/ओ.एस.डी./आ.एम./2016 भेज कर बताया है की “आर्मी वेलफेयर फंड बेटल केजुअल्टी” नाम से सिंडिकेट बैंक की साऊथ ब्लाक नई दिल्ली ब्रांच में खाता नं.90552010165915 खोला गया है जिसका आईएफएससी कोड एसवायएनबी 0009055 है।

जुड़ें हमारे फेसबुक पेज से

गुप्ता ने बताया की भारत की आबादी 150 करोड़ से अधिक है अगर जनता एक रुपया रोज के हिसाब से भी सेना के खाते में सहायता राशि जमा करे तो भारत की सेना दुनिया की सबसे मजबूत और ताकतवर सेना बन सकती है, किसी कमी के कारण सेना के जवान परेशानी में नही आएगे। गुप्ता ने बताया की सेना आपदा में भी जनता की जान – माल की रक्षा करती है। गुप्ता के सुझाव को प्रधानमन्त्री कार्यालय ने भी रक्षा मंत्रालय को भेजा था। प्रधानमन्त्री कार्यालय ने भी गुप्ता को इस सम्बंध में पत्र द्वारा सुचना दी। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के जजो की नियुक्ति को लेकर और लोकपाल बिल में भी गुप्ता के सुझाव शामिल किए गए है।

(पाठक कृपया ध्यान दे ! अब तक इस अकाउंट के सम्बन्ध में कोई बयान नहीं जारी किया गया है,  आप राजेंद्र कुमार गुप्त जी से संपर्क कर सकते हैं ! अतः किसी भी प्रकार का लेन देन करने से पहले अपने स्तर पर पुष्टि अवश्य कर लें।  हमारी पुष्टि में यह बात सही साबित हुई है)

आप निम्न नम्बरो से अकाउंट की जानकारी ले सकते हैं।

-01123014666 – सिंडिकेट बैंक, साऊथ ब्लॉक नई दिल्ली

01123019030 – उपेंद्र जोशी ओ इस डी। रक्षा मंत्री

www.mod.nic.in/forms/mainlinks.aspx?lid=1527&ID=0
उपरोक्त एड्रेस पर जाकर आप दिए गए नम्बरो का प्रमाण ले सकते हैं।

हमारे प्रयास करने पर इस अकाउंट की पुष्टि के लिए कुछ सबूत मिले हैं। यह खबर मध्य प्रदेश के अखबारों में कुछ दिन पहले बड़ी प्रमुखता से छपी थी।

आर टी आई कार्यकर्त्ता कई न्यूज़ चैनल्स पर अपना बयान भी दे चुके हैं।

 

Update 

One of our reader Mr.Satya Prakash Agrawal written to www.webmaster.indianarmt@nic.in to authenticate this A/C the reply received is as under

,
Dear Sir,
1. Indian Army is maintaining an account named Army Welfare Fund Battle Casualties, which accepts donation for the families of battle casualties. The donations received in the fund are utilized to pay financial assistance/grant to widows of our Battle Casualties, their next of kins and dependents. Individual based donations are not accepted. However, for such cases we could facilitate financial assistance to the beneficiary.

  1. To donate for the overall cause you may forward a Demand Draft in favour Army Welfare Fund Battle Casualties payable at New Delhi at the following address;-

Director Accounts Section
Adjutant Generals Branch
Ceremonial & Welfare Dte
Accounts Section
Room No 281-B, South Block,
IHQ of MoD (Army),
New Delhi 110011

3. Alternatively, the amount can also be transferred directly in the accont of Army Welfare Fund Battle Casualties under intimation to this Office as per the details of Bank Account given below:-

Fund Name : Army Welfare Fund Battle Casualties
Bank Name : Syndicate Bank
Branch : South Block, Defence Head Quarters,
New Delhi – 110011
Branch Code : 9055
IFSC Code : SYNB0009055
Account No : 90552010165915

  1. In case of queries, the donor may contact at the following at Army HQ:-

Appointment Telephone No

(a) Deputy Director General (Welfare) – 011-23018112
Ceremonial & Welfare Directorate

(b) Director Accounts Section – 011-23792382
Ceremonial & Welfare Directorate

With Regards,
Webmaster, Indian Army

 




Comments

comments

Related posts:

इंची टेप चाहिए किसी को ? भारतीय सेना ने किया पीओके में 3 किमी अंदर तक सर्जिकल स्ट्राइक ! लगभग 30 आत...
बढ़ते तनाव के कारण हुसैनीवाला और अटारी बॉर्डर बंद, बॉर्डर पर सभी डॉक्टरों की छुट्ट‍ियां रद्द!
सर्जिकल स्ट्राइक की प्लानिंग की थी भारत के इस बांड 007 ने...
नोट बैन पर शाह का विपक्ष पर हमला कहा-माया,मुलायम,राहुल को क्या तकलीफ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here