पहाड़ों पर बर्फ का कहर, बर्फ़बारी से कई जगहों पर फसे सैलानी

0
87

पहाड़ों पर बर्फबारी से पूरे उत्तर भारत में ठंड का प्रकोप बढ़ गया है. ठंड और कोहरे से खासकर यातायात व्यवस्था पर बुरा असर पड़ रहा है. दिल्ली में कोहरे की वजह से 6 अंतरराष्ट्रीय एवं 7 घरेलू उड़ानें रद्द करनी पड़ी हैं. वहीं 41 ट्रेनों के आने में देरी हुई है, 9 के समय में बदलाव किया गया है और 3 ट्रेनें निरस्त करनी पड़ी हैं. हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में अब भी सैलानी फंसे हुए हैं.

 भारी बर्फबारी से उत्तर भारत के कई इलाकों में सफेद चादर सी बिछ गई है. हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर और उत्तराखंड के पहाड़ों पर बर्फबारी ने सैलानियों की खुशी बढ़ा दी है, लेकिन कई इलाकों में सैलानी फंस भी गए हैं. शिमला में दूर-दूर तक बर्फ ही बर्फ है. पहाड़ की चोटियों से लेकर सड़कों तक बर्फ की सफेद चादर बिछ गई है. कुछ ऐसा ही नजारा मनाली का भी है. हिमाचल और जम्मू-कश्मीर में ये बर्फबारी बहुत से लोगों के लिए आफत लेकर आई है. मनाली में भारी बर्फबारी में सैकडों सैलानी घंटो रास्ते में फंसे रहे और जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे दो दिन तक बंद रहा.

दिल्ली में पारा लुढ़का
दिल्ली और आसपास के इलाकों में शनिवार सुबह हल्की बारिश हुई थी, इसके बाद से अभी तक कड़ाके की ठंड जारी है. बारिश और बर्फबारी के बाद पूरे उत्तर भारत में ठंड बढ़ गई है. पिछले कई दिनों से दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर भारत के कई इलाकों में खासकर रात और सुबह को घना कोहरा होता है. शुक्रवार की शाम से ही हवाओं की गति में तेजी आ गई, जिससे ठंडक भी बढ़ गई. मौसम विभाग की मानें तो पारा अभी और गिरेगा. इस हफ्ते में 3 डिग्री तक पारा गिरने के आसार है. शुक्रवार रात हुई बारिश के चलते शनिवार को दिल्ली-एनसीआर समेत तमाम इलाकों में शीत लहर चली. मौसम विभाग का कहना है कि इस हफ्ते में लगातार तीन से चार दिन अभी इसी तरीके से आसमान में बादल छाए रहेंगे और सूरज दिखाई नहीं देगा.

हिमाचल में फंसे हुए हैं सैलानी
हिमाचल प्रदेश के लोकप्रिय पर्यटन स्थलों शिमला मनाली, चंबा और डलहौजी का बर्फबारी की वजह से दो दिनों तक अन्य हिस्सों से संपर्क टूटा रहा. हालांकि रविवार को यातायात बहाल कर दिया गया. आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति और प्रभावित पर्यटकों का आवागमन अब सामान्य हो रहा है. शिमला और मनाली में बिजली और पानी की आपूर्ति आंशिक रूप से बहाल कर दी गई है. राज्य सरकार द्वारा संचालित कोई भी बस शिमला के ऊपरी इलाकों में नहीं चलाई जा रही क्योंकि कुफरी और नारकंडा के बीच बड़ी संख्या में गाड़ियां फंसी हुई हैं. बीते 24 घंटों में धर्मशाला, पालमपुर, सोलन, ऊना, हमीरपुर और मंडी जैसे निचले इलाकों में बारिश होने से तापमान में और गिरावट दर्ज हुई है. भूस्खलन होने की आशंका के चलते सरकार ने पर्यटकों को ऊंची पहाड़ियों पर न जाने की चेतावनी दी है.

कश्मीर में राजमार्ग खुला
बर्फबारी व बारिश के कारण पहले से बंद तीन सौ किलोमीटर लंबे जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग रविवार को एकतरफा खोल दिया गया. फिलहाल अभी जम्मू से घाटी के लिए किसी भी वाहन को नहीं छोड़ा गया है। पहले रास्ते में फंसे वाहनों को निकाला जा रहा है. घाटी से दो सौ से ज्यादा छोटे यात्री वाहनों को जम्मू रवाना कर दिया गया.

Comments

comments

Related posts:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here