दलितों को पहले ही बना चुकी हैं मूर्ख, अब ब्राह्मणों को गुमराह कर रहीं हैं मायावती

0
26

पूर्व पुलिस महानिदेशक एवं राज्यसभा सदस्य बृजलाल ने कहा कि बसपा सुप्रीमो मायावती पहले दलितों को मूर्ख बना चुकी है। विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही अब ब्राह्मणों को गुमराह करने में जुट गई हैं। उन्होंने कहा कि बहनजी की पोल खुल गई है, अब वे किसी भी जाति को गुमराह नहीं कर पाएंगी।

बसपा के प्रबुद्ध नागरिक सम्मेलन पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए बृजलाल ने शुक्रवार को कहा कि दलितों के नाम पर सत्ता में आने वाली मायावती ने कभी दलितों का भला नहीं किया। मायावती सरकार में 20 मई 2007 को आदेश जारी किया गया था कि केवल हत्या, हत्या के प्रयास और बलात्कार के मामले में ही एससी-एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया जाएगा। जबकि बसपा सरकार में ही 21 नवंबर 2007 को एससी-एसटी आयोग के एक्ट में संशोधन कर उसमें सभी जाति के लोगों को अध्यक्ष और सदस्य बनाने का द्वार खोल दिया।

उन्होंने कहा कि सपा सरकार में अखिलेश यादव ने एक्ट में संशोधन का फायदा उठाते हुए एससी आयोग में गैर दलित लोगों को अध्यक्ष व सदस्य नियुक्त किया था। बृजलाल ने कहा कि ब्राह्मण समाज बहनजी का ‘तिलक तराजू और तलवार, इनको मारो जूते चार’ का नारा भूला नहीं है। ब्राह्मण समाज अब बेवकूफ बनने वाला नहीं है। उन्होंने कहा कि बहनजी को उनकी पार्टी के सभी प्रभावशाली नेता छोड़कर चले गए हैं। बसपा में टिकट की खुली नीलामी की जाती है। बहनजी बताएं कि उन्होंने किस गरीब ब्राह्मण या गरीब दलित को टिकट दिया।

Comments

comments

Related posts:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here