दुनिया को अलविदा कहकर भी छह लोगों को नया जीवन दे गया योगेश,

0
72

हरियाणा के करनाल निवासी 19 वर्षीय योगेश ने दुनिया को अलविदा कहकर भी छह लोगों को नई जिंदगी दे दी। सड़क हादसे में गंभीर घायल योगेश के ब्रेन डेड होने के बाद परिजनों ने पीजीआई में उसके अंगदान की इच्छा जताई। डॉक्टरों ने बिना देर किए एक जरूरत मरीज में योगेश के हृदय को प्रत्यारोपित कर दिया। वहीं, एक मरीज को लिवर, एक को किडनी और एक अन्य मरीज में पैंक्रियाज को प्रत्यारोपित किया गया। वहीं, योगेश की दोनों कोर्निया अलग-अलग मरीजों में लगाई गईं।

बीते 16 मार्च को एक सड़क हादसे में योगेश को गंभीर चोटें आईं थीं। योगेश को इलाज के लिए तत्काल करनाल के एक निजी अस्पताल ले जाया गया। सिर में गंभीर चोटे लगने की वजह से योगेश की हालत गंभीर थी। वहां से उसे 18 मार्च को पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया गया। 19 मार्च को पीजीआई में ब्रेन डेथ सर्टिफिकेट कमेटी की ओर से योगेश के दिमाग को डेड घोषित कर दिया गया। उसके बाद योगेश के परिजनों ने अस्पताल के डॉक्टरों से अंगदान की इच्छा जताई। डॉक्टरों से सहमति मिलने के बाद योगेश के अंगों को जरूरतमंद मरीजों में प्रत्यारोपित कर दिया गया।

Comments

comments

share it...