लखनऊ में डीजीपी आवास के पास गुंडागर्दी,

0
7

डालीबाग में पुलिस के प्रदेश मुखिया, सरकार के कई मंत्रियों, जिला जज का आवास और अधिकारियों के आवास हैं। रविवार को अवकाश के चलते ज्यादातर लोग घरों में थे। रात करीब 8.30 बजे अचानक डीजीपी आवास के पहले तिराहे के पास चीखपुकार मच गई। दो कारों में सवार युवकों ने पहले बाइक सवार तीन युवकों को टक्कर मारकर गिराया और पीटने के बाद असलहे तान दिए।

इस बीच एसीपी हजरतगंज राघवेंद्र मिश्रा अपने आवास के बाहरी कमरे में मुंशी संग सरकारी काम निपटा रहे थे। चीख पुकार सुनकर वह बाहर निकले। इस बीच प्रभारी निरीक्षक हजरतगंज के हमराही वेद प्रकाश भी पहुंच गए। एसीपी, उनके मुंशी और सिपाही ने आरोपियों को दौड़ा लिया। सिपाही वेद प्रकाश कार सवार को पकड़ रहा था। इस बीच चालक ने कार की रफ्तार बढ़ा दी। सिपाही करीब 50 मीटर तक कार के साथ दौड़ता चला गया। किसी तरह उसने अपनी जान बचाते हुए एक आरोपी को दबोच लिया। इसके बाद सिपाही ने एक और युवक को दबोच लिया।

इस बीच एसीपी हजरतगंज व उनके मुंशी ने तीन युवकों को पकड़ लिया। पकड़े गए आरोपियों में खदरा के फैज, शाबाज व दानिश हैं। जबकि अन्य दो बदमाश तनवीर और आसिफ बालू अड्डे के रहने वाले बताए जा रहे हैं। एसीपी की सूचना पर पहुंचे अतिरिक्त निरीक्षक अनिल सिंह, एसएसआई अमरनाथ यादव, नरही चौकी प्रभारी भूपेंद्र सिंह और दयाशंकर सभी आरोपियों को थाने ले गए।पूछताछ में तनवीर और आसिफ ने कुबूला कि कुछ देर पहले बालू अड्डे के पास कार के आगे उनका हेलमेट गिर गया था। इसे लेकर हाथापाई हुई। इस बीच तनवीर, आसिफ और उनके एक साथी ने कार सवारों को थप्पड़ जड़ दिए थे। इससे नाराज होकर कार सवारों ने अपने अन्य साथियों को बुलाया तो बाइक सवार तीनों युवक डीजीपी आवास की तरफ भाग निकले। जहां पीछे से कार सवारों ने टक्कर मार दी थी।

Comments

comments

Related posts:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here