21-50 की आयु वालों पर ज्यादा भारी पड़ी कोरोना की दूसरी लहर

0
40

उत्तर प्रदेश में दूसरी लहर के दौरान कोरोना वायरस ज्यादा आक्रामक रहा। फेफड़े के साथ मरीजों के अन्य अंग भी प्रभावित हुए। इसी वजह से 60 वर्ष से अधिक उम्र वाले मरीजों में से ज्यादातर की मौत कई अंगों के फेल होने से हुई। इसका खुलासा डेथ ऑडिट के दौरान हुआ है।

ऑडिट टीम से जुड़े सूत्रों का कहना है कि दूसरी लहर में वायरस के नए स्ट्रेन ने एक साथ कई अंगों पर हमला किया। इससे कम समय में मरीज अति गंभीर हो गए। दूरदराज के जिलों से जिन मरीजों को केजीएमयू, पीजीआई और लोहिया संस्थान रेफर किया गया, उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई। इससे उन्हें बचाना मुश्किल हुआ। 

गौरतलब है कि प्रदेश में कोरोना का पहला मरीज फरवरी 2020 में मिला था, जिसे दिल्ली में भर्ती कराया गया। इसके बाद 11 मार्च को कनाडा से लखनऊ आई एक महिला में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई। उसे केजीएमयू में भर्ती किया गया। पर, जनवरी 2021 तक प्रदेश में 5.93 लाख लोग वायरस की चपेट में आए गए। इनमें से 8504 लोगों की मौत हो गई। इस दौरान संक्रमितों की अपेक्षा मृत्युदर 1.4 फीसदी थी। इसमें 80 फीसदी लोग 60 साल से अधिक उम्र वाले थे। ज्यादातर के फेफड़े में गंभीर संक्रमण था।

Comments

comments

Related posts:

लखनऊ के इस हॉस्पिटल में बुजुर्ग की जगह सौंप दिया युवक का शव, यूं खुला मामला
दूसरी लहर में डेल्टा वैरिएंट ने मचाई थी तबाही, 355 में 327 सैंपल में पुष्टि,
मुख्यमंत्री योगी ने कोरोना से निराश्रित हुए बच्चों के खाते में तीन महीने के 12 हजार रुपये भेजे
नहीं मिला कोविड वायरस का डेल्टा प्लस वैरिएंट, केजीएमयू और बीएचयू में 211 नमूनों की हुई जांच

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here