इंची टेप चाहिए किसी को ? भारतीय सेना ने किया पीओके में 3 किमी अंदर तक सर्जिकल स्ट्राइक ! लगभग 30 आतंकी ढेर !

0
166

 भारतीय सेना ने एलओसी पार करके पाकिस्तान के 7 कैंपों पर हमला बोलते हुए आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया। यह ऑपरेशन उसी तरह से चलाया गया था, जिस तरह से अमेरिका ने पाकिस्तान के अंदर जाकर ओसामा बिन लादेन का खात्मा किया।

भारतीय सेना के डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने गुरुवार को बताया कि सेना ने एलओसी के पार जाकर बीती रात आंतक के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है. उन्होंने बताया कि बुधवार रात हमें विश्वस्त और पक्की जानकारी मिली. कुछ आंतकवादी सीमा पर इकट्ठा हुए हैं. उनका इरादा जम्मू-कश्मीर में घुसना था.

इस खबर के मिलने के बाद भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक उन लॉंच पैड पर किए हैं. इसका लक्ष्य आतंकवादियों के नापाक मंसूबों को विफल करना था. इस हमले में उन्हें भारी नुकसान पहुंचा है. कइयों को मार गिराया गया है. ये ऑपरेशन खत्म हो गया है. हमारा इस ऑपरेशन को और समय तक जारी रखने का इरादा नहीं है. लेकिन मैं यकीन दिला दूं कि हमारी सीमा किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, भारतीय सेना के कमांडो ने सर्जिकल स्ट्राइक करने के लिए कमांडो की अलग-अलग टीम बनाई गई।

रतीय कमांडो एलओसी पार करके सर्जिकल स्ट्राइक करने गई।
– भारतीय कमांडो की 7 अलग-अलग टुकड़‍ियां गई और इस ऑपरेशन को अंजाम दिया।
– इसके लिए सेना ने एमआई-35 हेलिकॉप्टर का प्रयोग किया।
– कमांडो पैरा ट्रूपिंक के जरिए हेलिकॉप्टर से नीचे उतरे और इस ऑपरेशन को अंजाम दिया।
– इंडियन आर्मी ने देर रात 12.30 बजे से सुबह 4.30 बजे तक आतंकियों ठिकानों पर किया ऑपरेशन।
– पीएम मोदी ने तीनों सेनाध्यक्षों के साथ इस पूरे ऑपरेशन पर नजर बनाई रखी।
– भारतीय ऑर्मी ने एलओसी के 3 किलोमीटर अंदर जाकर यह ऑपरेशन किया।
– इस ऑपरेशन में 38 आतंकियों को मार गिराने की बात सामने आ रही है।
– भारतीय सेना बिना किसी नुकसान के वापस लौटने में कामयाब रही।

सीमा पार आतंकी हरकतों का भी देंगे जवाब

सेना के डीजीएमओ सिंह ने कहा कि सीमा पार भी अगर आतंकवादी हरकत करेंगे तो हम बर्दाश्त नहीं करेंगे. पाकिस्तान ने 2004 में वादा किया था कि वह अपनी सरजमीं का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए नहीं होने देगा. हम पाक सेना से यही उम्मीद करते हैं.

पाकिस्तानी सेना को दी जानकारी

उन्होंने कहा कि भारतीय सेना के डीजीएमओ ने पाकिस्तानी सीमा पर सर्जिकल स्ट्राइक किए हैं. इसमें भारी संख्या में आतंकवादी इन्फ्रास्ट्रक्चर को नुकसान पहुंचा है और कईयों को मार गिराया गया है. सिंह ने कहा कि हमने इस मसले पर पाकिस्तानी आर्मी के डीजीएमओ से भी बातचीत की. उन्हें हमारी प्राथमिकताओं और सर्जिकल स्ट्राइक किए जाने की जानकारी भी दी है.

पुंछ और उरी हमले के बाद सेना की जवाबी कार्रवाई

लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने कहा कि 11 और 18 सितंबर को पुंछ और उरी हमले के बाद यह कार्रवाई बहुत सोच-समझकर की गई है. एलओसी के पास पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ की लगातार कोशिश की जाती रही है. इस पर गंभीरता से सोचते हुए हमने यह सैन्य कार्रवाई की. डीजीएमओ के साथ विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरुप भी मौजूद थे.

सेना के डीजीएमओ सिंह ने बताया कि बुधवार रात आतंकियों के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल और वहां की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को जानकारी दे दी गई है. उन्होंने बताया कि इस कार्रवाई में किसी भी भारतीय को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है.

बौखलाए नवाज शरीफ ने की कार्रवाई की निंदा 

पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक वहां के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक पर नाराजगी जताई. उन्होंने इस कार्रवाई की निंदा करते हुए कहा कि वह देश की सुरक्षा करने के लिए तैयार हैं. शरीफ ने कहा कि हम शांति चाहते हैं. इसे कमजोरी नहीं समझा जाना चाहिए. पाकिस्तान के इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस डिपार्टमेंट की ओर से कहा गया है कि भारतीय सेना ने भीमबेर, हॉटस्प्रिंग, केल और लिपा सेक्टर में हमले को अंजाम दिया है.

Comments

comments

share it...